Video: ऋषि अंगारा की पुत्री होने पर नाम पड़ा अंगारमोती माता मोतियों से झोली भरती है तो अंगार भी बरसाती है

NEWS / MISC

24 Oct , 2020

दण्डकारण्य के प्रवेश द्वार धमतरी गंगरेल की सुरम्य वादियों में बिराजी है माँ अंगारमोती। माँ विन्द्य्वासिनी और माँ मनकेशरी की बहन अंगारमोती के दरबार से कोई भक्त खाली नहीं जाता 600 साल पहले चावर गाँव के बीहड़ में स्वयं प्रकट हुई थी माता बांध के डुबान में जब चावर गांव का अस्तित्व समाप्त हो गया। तब 1972 में भक्तों ने माता का दरबार नदी किनारे बना बना दिया तब से यहाँ आस्था की ज्योत जल रही है अनवरत तो देर किस बात की उठिये कर आइये दर्शन मोतियों से झोली भर देने वाली अंगारमोती के प्रेम से बोलो जय माता दी।

Yamini Dubey

Latest videos

Recently Live Streamed videos

Popular videos